ऐ राजा ढेर ना कराइ निहोरा,
बांह फैलाई समा जाई कोरा ,
ऐ राजा ढेर ना कराइ निहोरा,
बांह फैलाई समा जाई कोरा …

दिलवा में धसल बानी रउआ ..
रउआ .. हाँ हाँ रउआ ..

अइसे ना पेन्हा झलकउआ,
जवानी लेके उड़ जाई कउआ,
अइसे ना पेन्हा झलकउआ,
जवानी लेके उड़ जाई कउआ…

काहे तोहार मनवा ना डोलत बा राजा ,
खुल्ला जवानी इ देख के ..

नियत के जियत मुआ देबू का हो ,
बॉडी में हमरा ठेक के..

काहे तोहार मनवा ना डोलत बा राजा ,
खुल्ला जवानी इ देख के,
नियत के जियत मुआ देबू का हो ,
बॉडी में हमरा ठेक के..
काहे ला खा तरा भऊआ..
भऊआ..अरे ..भऊआ..

अइसे ना पेन्हा झलकउआ,
जवानी लेके उड़ जाई कउआ,
अइसे ना पेन्हा झलकउआ,
जवानी लेके उड़ जाई कउआ…

( कउआ … कउआ )

तू ना ही धरब ता सुना करेजा ,
छाती पर चढ़ जाईब फान के,
ऐ हो जनाना जवानी के खजाना,
राख ओढ़निया में बांध के…

तू ना ही धरब ता सुना करेजा ,
छाती पर चढ़ जाईब फान के,
ऐ हो जनाना जवानी के खजाना,
राख ओढ़निया में बांध के… 
दम नइखे ता मार पौआ ,
पऊआ…पिय…पऊआ..

अइसे ना पेन्हा झलकउआ,
जवानी लेके उड़ जाई कउआ,
अइसे ना पेन्हा झलकउआ,
जवानी लेके उड़ जाई कउआ

145 total views, 1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *